New श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi) View larger

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)

SRRARAGITA

New product

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)


श्री राधारमण गीता में रसिकवर श्री गुणमंजरी दास गोस्वामी जी के द्वारा रचित पदों में श्रीजी की उसी नित्य लीला तथा नैमित्तिक लीला का वर्णन है 

Lord Krishna's Nitya and Naimaitik lilas by Shri Gunamanjari Dasa Goswami

Author: Shri Gunamanjari Dasa Goswami
Translator: Vaisnavacharya Chandan Goswami
Binding : Softbound
Pages: 160
FREE SHIPPING WITHIN INDIA

More details

2 Items

Warning: Last items in stock!

₹ 299.00

More info

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)

श्री वृंदावन की भक्ति भावमयी भक्ति कही गयी है । इस भक्ति में अष्टायाम सेवा के भाव ही प्रधान हैं  जिससे श्री प्रियालालजू की लीला का स्मरण कर भोग राग सेवा करी जाती है ।
श्री राधारमण गीता में रसिकवर श्री गुणमंजरी दास गोस्वामी जी के द्वारा रचित पदों में श्रीजी की उसी नित्य लीला तथा नैमित्तिक लीला का वर्णन है जिसके द्वारा उनके प्रिय भक्त उनकी उपासना करते हैं ।
रसिकश्रेष्ठ श्री सार्वभौम मधुसूधन गोस्वामी जी द्वारा वर्णित श्री राधारमण देव के प्राकट्य की अद्भुत कथा एवं दुर्लभ श्री राधारमण एवं श्री गोपाल भट्ट गोस्वामी जी की स्तुतियाँ इस ग्रंथ को अद्वितीय बनाती हैं ।

A collection of ecstatic songs that have serenaded Shri Radharamanji for over a century,  Śhrī Rādhāramaṇ Gītā lovingly portrays Shriji’s Nitya as well as Naimaitik Past times. The story of His appearance, based on the poetic account of one of the Temple’s most celebrated  Acharyas, is included. 

Author: Shri Gunamanjari Dasa Goswami
Translator: Vaisnavacharya Chandan Goswami
Publisher: Odev Publishing, Samvat 2074, 2017 First Edition 
ISBN(s): 9781944725013, 978-1-94-472501-3, 1-944725-01-6, 1944725016 
Format: Paperback, 5.25” x 7.25”
Pages: 160
Weight: ≈ 350 gms

Reviews

No customer reviews for the moment.

Write a review

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)

श्री राधारमण गीता (Sri Radharaman Gita - Hindi)


श्री राधारमण गीता में रसिकवर श्री गुणमंजरी दास गोस्वामी जी के द्वारा रचित पदों में श्रीजी की उसी नित्य लीला तथा नैमित्तिक लीला का वर्णन है 

Lord Krishna's Nitya and Naimaitik lilas by Shri Gunamanjari Dasa Goswami

Author: Shri Gunamanjari Dasa Goswami
Translator: Vaisnavacharya Chandan Goswami
Binding : Softbound
Pages: 160
FREE SHIPPING WITHIN INDIA